अधूरी मोह्बत

हम दोनो एक ही स्कूल में थे , बस हमारी क्लास अलग- अलग थी| हमारी जान पेह्चान एक common friend के जरिये हुई| शुरू में तोह वह मुझे बहुत अजीब लड़का लगा, लेकिन फिर वह मुझे औरो से अलग लगने लगा| वह खुश रेह्ता था तो मुझे खुशी होती थी और जब वह परेशान रेह्ता तो मुझे बुरा लगता था| उसके चहरे पर मुस्कान अच्छी लगती थी और उसका दुख अपना सा।
मैं समझ नहीं पाई थी की उसके होने ना होने से मुझे क्यों इतना असर होने लागा था।

वो मुझे अपना अच्छा दोस्त समझता था , और हमारे बीच हँसी मज़ाक हमेशा चलता रहता था। एक दिन बातों ही बातों मुझे पता चला की उसकी कोई   गर्लफ्रेंड है| और फिर उस दिन मुझे एहसास हुआ की ......मैं उसे चहाने लगी थी।
अफ़सोस की बात ये थी की मुझे जिस दिन यह महसूस हुआ की मैं उसे प्यार करती हूँ। उसी दिन मेरा दिल टूट गया था क्योंकि वह किसी और को प्यार करता था।
मैं उसे कभी अपने दिल की बात नहीं कह पाई और मेरी मोहब्बत अधूरी रह गई।

Ps: लाइफ में कई लोगो के साथ ऐसा हुआ होगा! हम बस मेह्सुस करते है , पर जब तक समझ आती की क्या हुआ हमे ...
तब तक देर हो जाती है|

Comments

Popular Posts