Posts

Showing posts from February, 2017

Thank God ! We never kissed.

Image
I knew it was our first meet ,
We both were nervous and don't know what to speak.
I smiled and you too ! Because we both were confused .I was seeing in  your  eyes, you were seeing mine;
''so this is how it feels '' i thought in my mind.
I was in you  and it was  true !And i thought maybe you were thinking this too,
I asked '' why are so silent ?'' and your reply was like - l caught you , and I knew you were lying.
I tried my best not to laugh because i could see through  your eyes what were thoughts.For a moment I thought it would  be fun ,
A kiss what i want.But then you said -'' i am afraid, if you didn't want ''
I thought for second time , and said '' yes , maybe we should wait for right time to come.''And now i say '' thank God we never kissed, because I want to save it for right one .!''

Friend Request

Image
आपने cousin की शादी में मुझे Raipur जाने मौका मिला। शुरू मे तो मैं वहाँ अकेला पड़ गया था, पर फिर वहाँ मेरी उम्र के और भी लड़के -लड़कियाँ थे। जिनसे मेरी अच्छी दोस्ती हों गयी। मेरे cousin की शादी फरवरी माह के पहले हफते में थी , और शादी वाला मौहोल होने के कारण सब आपस में मस्ती कर रहे थे।
वहाँ एक लड़की मिली थी जो मुझे अच्छी लगने लगी थी। शादी में मैंने उस लड़की से बात करने की कोशिश की पर हर बार किसी कारण से उसे बात न हों पती।
शादी के आखरी  दिन जब सभी रिश्तेदारों के जाने का समय था तो मुझे बहुत बैचनी थी। सोचा की आज उसे सब कहकर ही रहूँगा पर कोई मौका नहीं मिल पा रहा था।
तब मुझे एक idea आया मैने सभी हम उम्र दोस्तों को एक गुर्प () फ़ोटो लेने का सुझाव दिया और फिर फ़ोटो के बहाने मैं उसके पास खड़ा हों गया ।
फ़ोटो खींचे जाने के बाद मैंने कहा "फ़ोटो मैं आपको Whatsup  कर दुगा आपना no. दे देना |" उसने "हाँ ठीक है" कहा। मुझे  लगा अभी नम्बर मिल जाएगा , लेकिन फिर उसने कहा आप फेसबुक मे Upload कर के मुझे टैग कर देना। मैं  कुछ केह्ता इस से पहले वह चले गई |
आज तक उस लड़की से बात नही हो प…

यादों की धूल Dust on Love Letter.

Image
आज अलमारी साफ़ करने की सोची और फिर शुरू हो गया mission सफ़ाई|
एक एक करके सारी किताबे निकाली ,धूल तो बहुत जम गई थी सब में| फिर नाजाने किधर से एक पेज गिरा.., गौर से देखा तो कुछ लिखा था...पर वो लिखावट मेरी नही थी....
जब दो तीन बार फूक मारकर झाड़ा तब समझ में आया क्या लिखा हैं।
मेरे चहरे पर पढ़ने के बाद हलकी सी मुस्कान थी  । जैसे समय वापिस पंद्रह साल पहले लौट गया हो।वह letter उसका था, उसकी छोटी लिखाई को देख अभी भी उसकी बातें याद आती थी।
उसकी सभी बाते याद थी, पर वो कारण याद न रहा जिसके कारण हम अलग हुए थे|
सोचती हुँ क्या वोह भी ऐसे ही मेरी यादों से  धूल हटाता होगा।PS:- Have You ever read any letter? Have you  wrote any letter...
अगर आपने किसी को पत्र लिखा है, तो आप जरुर जानते है उस एहसास को जो किसी कि खत को पढ़कर होता है।