प्यार कुछ मेरी नजर से


  •  मैं  ये  लेख हिंदी  भाषा  में  इसलिए लिख रही हूँ ताकि  मेरी बात सबको समझ  आए ।
आज कुछ हुआ जो मुझे प्यार की सही परिभाषा को याद दिलाया।/
तो मैंने सोचा कि क्यों नहीं इस बकवास को  सभी के साथ साझा करू।

 
मेरे विचार में प्यार में कोई बुराई नहीं ।पर किसी के प्यार  में पड़ना  एक बवकूफी हैं । काफी लोग ये गलती करते हैं । 
 मैंने भी यह गलती की ।।।😁😁
पर समझदार वो  है; जो अपनी  और दुसरो की गलती से  सबक  ले। 'जवानी ' ,एक ऐसा समय है ;जब प्यार जैसी गलती मामूली सी बात है । पर जवानी ,ही ऐसा समय जब  एक गलती जिंदगी भर का सबक बन जाती हैं । 
मैंने  एक समय देखा; जब मैं,  एकतरफा प्यार में पड़कर बिखर चुकी थी । उस समय मैंने बहुत गलत फैसले  लिए । पर  इसे पहले मैं अपने भविष्य का सर्वनाश करती, मेरे बड़ों के आशीर्वाद के कारण मैं सम्भल  गई 
अब बड़ों का आशीर्वाद का मतलब मैं क्या बताऊ?  वो काफी समझदार लोग समझ ही गए होंगे- जिन्हें गलती करने पर  घर पर छपल  और लाते मिली होगी ।😂😂😂
जी हाँ मुझे भी मेरी माँ ने ऐसे लतड़ा ।
आज भी जब मैं प्यार जैसे शब्द के बारे में  सोचती हूँ, मुझे माँ क प्यार ही पहले याद आता है । फिर सच्चाई तो यह है की प्यार सही समय पर सही  इंसान के साथ बहुत किश्मत वालों को ही होता है ।
प्यार तो  आजकल मिनटों में किसी से भी हो जाता है ।पर यह प्यार इतनी मुश्किलों को अपने साथ लेकर आता है कि कोई इसे करने से पहले दस बार सोच ले।
किसी व्यक्ति से हमें प्यार विभिन्न प्रकार से हो सकता हैं । :-
  1. एकतरफा  प्यार ।
  2.  छुपारूतम प्यार।
  3. डरपोक वाला ।
  4. खुलेआम वाला।
  5. टाइम पास वाला ।
  6. सच्चा वाला ।
  • एकतरफा  प्यार । आज भी कितने लोग  इस  मोह में फंसे हुए है । कुछ तो समझ  जाते हैं  और  कुछ तो समझते ही नहीं । दिल के बार बार टुकड़े होते हैं  पर फिर ये लगे रहते हैं ।
  • छुपारूतम प्यार। इसमें  दोनों ही  आकर्षण होता है ।सब समझ  भी होती हैं । लेकिन सब कुछ छुपा कर करना पड़ता हैं । जमाने की नजरों से बचना होता है ।  हालत के साथ ये कभी भी बदल सकता हैं ।
  • डरपोक वाला । ये वाला प्यार तो छुपारूतम प्यार के जैसे ही होता है ।बस फर्क इतना है कि ये कभी  आगे नहीं  बढ़ सकता है । डर के कारण ये प्यार खामोश हो जाता है ।
  • खुलेआम वाला। ये वाला प्यार तो छुपारूतम प्यार के बिलकुल  उलट है । जहाँ  छुपारूतम  प्यार में  सब छुपा कर करते है । इस मे सब खुलेआम होता । हर social media sites अपने प्यार को दिखाया जाता है । रिश्तेदारों की मंजूरी की भी जरूरत नहीं होती ।
  • टाइम पास वाला। ये वाला प्यार  बड़ा ही निकम्मा प्यार होता है । जिस व्यक्ति के पास करने के लिए कुछ नहीं होता वही निकम्मा व्यक्ति  दुसरो के दिल के साथ  खेल खेलता है ।

  • सच्चा वाला।ये वाला प्यार तो बहुत किश्मत वालों को ही होता है । कुछ ही सफल व्यक्ति है जो  इस प्यार के सभी पड़ाव को सफलता से पार कर पाए हैं । इसमें दोनों ही व्यक्तियों को  आपना सब कुछ खोना पड़ता । जिसने ये कर  लिया  उसे प्यार में PhD के साथ स्वर्ग  भी  नसीब होता है ।😂😂👏👏❤

P.S. ये सच की प्यार को समझना मुश्किल है । मैं तो बस  अपने  दिमाग के फितुर  को  खतम कर रही हूँ । अगर आप लोगों को कोई दिक्कत हो तो मैं कुछ क्यों करूँ । आप को कौन सा वाला प्यार हुआ; अपने सुझाव दे सकते हैं ।

Comments

Popular posts from this blog

Love should be real

Without a kiss

Farewell post